Monday, August 4, 2014

आहटें .....





आज भोर 
कुछ ज्यादा ही अलमस्त थी ,
पूरब से उस लाल माणिक का 
धीरे धीरे निकलना था 
या 
तुम्हारी आहटें थी ,
कह नहीं सकती -
दोनों ही तो एक से हो 
जब क्षितिज पर 
दस्तक देते हो ,
रौशनी और रंगीनियाँ साथ होती हैं .....!

प्रियंका राठौर 

4 comments:

  1. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete
  2. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    self publishing india

    ReplyDelete