Thursday, June 30, 2011

चाल जिन्दगी की....







किसी के होने
न होने से
क्या जिन्दगी
रुकी है कभी
वह तो बस
चलती है
चलती जाती है
अपनी मंथर गति से .....
अगर मिल गयी
जिन्दगी की ताल
से चाल
दुनिया मुट्ठी में
अन्यथा -
यूँहीं ढुलके हुए
बेजान लट्टू
की तरह
फिर किसी हाथ
और किसी डोरी
के इंतजार में ......
जिन्दगी तो बस
चलती है
चलती जाती है
अपनी मंथर गति से .......




प्रियंका राठौर

21 comments:

  1. जिन्दगी तो बस
    चलती है
    चलती जाती है...bahut sahu, yahi satya hai

    ReplyDelete
  2. ज़िन्दगी एक रफ़्तार से चलती रहे।

    ReplyDelete
  3. अगर मिल गयी
    जिन्दगी की ताल
    से चाल
    दुनिया मुट्ठी में
    अन्यथा -
    यूँहीं ढुलके हुए
    बेजान लट्टू
    की तरह

    गहन चिंतन ... ज़िंदगी चलती रहती है ..चाहे किसी भी चाल से

    ReplyDelete
  4. जिन्दगी तो बस
    चलती है
    चलती जाती है
    अपनी मंथर गति से .......
    bahut sundar abhivyakti.badhai priyanka ji.

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा!!!!

    ReplyDelete
  6. जिंदगी तो अपनी रफ्तार से चलती ही जाती है ...
    जीवन का पहिया अनवरत चलता है , चलता रहे ...
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रियंका

    ReplyDelete
  8. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (02.07.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  9. @satyam ji....bahut bahut dhanybad....

    ReplyDelete
  10. aap sabhi ka bahut bahut dhanybad....aur aabhar...

    ReplyDelete
  11. सही कहा आपने ज़िंदगी चलते रहने का नाम है ! सुंदर अतिसुन्दर , बधाई

    ReplyDelete
  12. यूँ हीं ढुलके हुए
    बेजान लट्टू
    की तरह
    फिर किसी हाथ
    और किसी डोरी
    के इंतजार में ....

    एकदम सचबयानी...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. किसी के होने
    न होने से
    क्या जिन्दगी
    रुकी है कभी
    वह तो बस
    चलती है
    चलती जाती है
    अपनी मंथर गति से .....bilkul sach baat kahdi aapne jindagi ke baare main.bahut hi saarthak rachnaa,gahan abhibyakti.badhaai sweekaren.


    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete
  14. सुन्दर रचना.....
    जीवन दर्शन .....जिंदगी का
    बस चलती का नाम जिंदगी

    ReplyDelete
  15. जिन्दगी तो बस
    चलती है
    चलती जाती है
    अपनी मंथर गति से .......
    bas yahi to sabse bada sach hai.....

    ReplyDelete
  16. किसी एक के होने न होने से जिंदगी रूकती नहीं,
    चलती रहती है..

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. किधर से शुरू करून, किधर से ख़तम करून |
    जिन्दगी का फ़साना, कैसे तेरी नज़र करून |
    है ख्याल जिन्दगी का, कैसे मुनव्वर करून |
    मगरिब के जानिब खड़ा, कैसे तसव्वुर करून |

    ReplyDelete