Monday, June 13, 2011

तेरी ही कमी ......






जहाँ से पाया ,
उसको जोड़ा ,
जिसको देखा,
उसको अपनाया,
बूँद  बूँद से ,
संसार बसाया ....
इस जोड़ने 
और  घटाने के क्रम में ,
कहीं अंतस ने -
एक अहसास जगाया 
है तो सब कुछ 
इस संसार में 
फिर भी  न जाने क्यों 
कुछ है कम सा ....
जीवन है ,
लोग हैं ,
सुख - दुःख और 
हैं खुशियाँ ,
फिर क्या -
ये क्षीण  सा आभास है ...
तभी -
दस्तक हुयी 
तेरी यादों की .....
हाँ -
यही तो कम है -
सब कुछ है 
इस संसार में -
पर -
तेरी ही कमी बड़ी है .....
हाँ -
तेरी ही कमी बड़ी है .....

जहाँ से पाया ,
उसको जोड़ा ...................!!





प्रियंका राठौर  

23 comments:

  1. दस्तक हुयी
    तेरी यादों की .....
    हाँ -
    यही तो कम है
    जो कम था वह मिल गया | सुंदर अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  2. सब कुछ है
    इस संसार में -
    पर -
    तेरी ही कमी बड़ी है .....
    हाँ -
    तेरी ही कमी बड़ी है .....

    bahut achhi rachna..
    mere blog me bhi aaye..

    ReplyDelete
  3. क्या लिखा है आपने....शानदार.

    सादर

    ReplyDelete
  4. दस्तक हुयी
    तेरी यादों की .....
    हाँ -
    यही तो कम है -
    सब कुछ है
    इस संसार में -
    पर -
    तेरी ही कमी बड़ी है .....
    हाँ -
    तेरी ही कमी बड़ी है ....bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  5. वाह वाह बहुत ही शानदार रचना सुन्दर भावो से भरी।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  7. लीगल सैल से मिले वकील की मैंने अपनी शिकायत उच्चस्तर के अधिकारीयों के पास भेज तो दी हैं. अब बस देखना हैं कि-वो खुद कितने बड़े ईमानदार है और अब मेरी शिकायत उनकी ईमानदारी पर ही एक प्रश्नचिन्ह है

    मैंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर श्री बी.के. गुप्ता जी को एक पत्र कल ही लिखकर भेजा है कि-दोषी को सजा हो और निर्दोष शोषित न हो. दिल्ली पुलिस विभाग में फैली अव्यवस्था मैं सुधार करें

    कदम-कदम पर भ्रष्टाचार ने अब मेरी जीने की इच्छा खत्म कर दी है.. माननीय राष्ट्रपति जी मुझे इच्छा मृत्यु प्रदान करके कृतार्थ करें मैंने जो भी कदम उठाया है. वो सब मज़बूरी मैं लिया गया निर्णय है. हो सकता कुछ लोगों को यह पसंद न आये लेकिन जिस पर बीत रही होती हैं उसको ही पता होता है कि किस पीड़ा से गुजर रहा है.

    मेरी पत्नी और सुसराल वालों ने महिलाओं के हितों के लिए बनाये कानूनों का दुरपयोग करते हुए मेरे ऊपर फर्जी केस दर्ज करवा दिए..मैंने पत्नी की जो मानसिक यातनाएं भुगती हैं थोड़ी बहुत पूंजी अपने कार्यों के माध्यम जमा की थी.सभी कार्य बंद होने के, बिमारियों की दवाइयों में और केसों की भागदौड़ में खर्च होने के कारण आज स्थिति यह है कि-पत्रकार हूँ इसलिए भीख भी नहीं मांग सकता हूँ और अपना ज़मीर व ईमान बेच नहीं सकता हूँ.

    ReplyDelete
  8. very well said Priyanka ji suc a wonderfull through,kahan se lati hain aap etne sunder ehesas weldon..keep writting nd keep in touch pls

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. आपकी रचनाओ से आपके कोमल होने का पता लगता है. दिल की गहरैयो से निकली ये रचना ने दिल छू लिया.
    --------------------------------------------
    क्या मानवता भी क्षेत्रवादी होती है ?

    बाबा का अनशन टुटा !

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर प्रियंका

    ReplyDelete
  12. प्रिय प्रियंका
    क्या बात है..बहुत खूब....बड़ी खूबसूरती से दिल के भावों को शब्दों में ढाला है.

    ReplyDelete
  13. तेरी ही कमी है ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर.
    well said.

    ReplyDelete
  15. सच है ... किसी एक के न होने से बहुत कुछ खाली सा लगता है ... एकाकी हो जाता है मन ...

    ReplyDelete
  16. मेरा बिना पानी पिए आज का उपवास है आप भी जाने क्यों मैंने यह व्रत किया है.

    दिल्ली पुलिस का कोई खाकी वर्दी वाला मेरे मृतक शरीर को न छूने की कोशिश भी न करें. मैं नहीं मानता कि-तुम मेरे मृतक शरीर को छूने के भी लायक हो.आप भी उपरोक्त पत्र पढ़कर जाने की क्यों नहीं हैं पुलिस के अधिकारी मेरे मृतक शरीर को छूने के लायक?

    मैं आपसे पत्र के माध्यम से वादा करता हूँ की अगर न्याय प्रक्रिया मेरा साथ देती है तब कम से कम 551लाख रूपये का राजस्व का सरकार को फायदा करवा सकता हूँ. मुझे किसी प्रकार का कोई ईनाम भी नहीं चाहिए.ऐसा ही एक पत्र दिल्ली के उच्च न्यायालय में लिखकर भेजा है. ज्यादा पढ़ने के लिए किल्क करके पढ़ें. मैं खाली हाथ आया और खाली हाथ लौट जाऊँगा.

    मैंने अपनी पत्नी व उसके परिजनों के साथ ही दिल्ली पुलिस और न्याय व्यवस्था के अत्याचारों के विरोध में 20 मई 2011 से अन्न का त्याग किया हुआ है और 20 जून 2011 से केवल जल पीकर 28 जुलाई तक जैन धर्म की तपस्या करूँगा.जिसके कारण मोबाईल और लैंडलाइन फोन भी बंद रहेंगे. 23 जून से मौन व्रत भी शुरू होगा. आप दुआ करें कि-मेरी तपस्या पूरी हो

    ReplyDelete
  17. कभी एक इंसान की कमी रहने पे लगता है ऐसे जैसे पूरी दुनिया ही सुनसान हो गयी...

    ReplyDelete
  18. गुलज़ार साहब कहते हैं -
    तेरी सूरत जो भरी रहती है, आंखों में सदा
    अजनबी लोग भी पहचाने से लगते हैं मुझे

    तेरे रिश्तों में तो दुनिया ही पिरो ली मैंने।

    ReplyDelete
  19. दस्तक हुयी
    तेरी यादों की .....

    प्रियतम को अब
    तरसे नैना |
    कितने लम्बे-
    अरसे नैना ||


    हौले - हौले
    बरसे नैना

    ReplyDelete
  20. है तो सब कुछ
    इस संसार में
    फिर भी न जाने क्यों
    कुछ है कम सा ....


    aisa hi hota hai aksar
    jo nahi hota saamne
    koi bhi wastu ya shaks

    par uske milne baad
    nahi lagta kuchh aisa bhi
    ki haan,
    uski aur jarurat hai.....

    ReplyDelete
  21. बहुत ही खुबसूरत एहसासों से भरी रचना... बहुत ही सुंदर....

    ReplyDelete