Saturday, October 22, 2011

क्या भूलूं...कैसे भूलूं ....










क्या भूलूं
कैसे भूलूं ....
वो ऐतबार की बातें
वो इंतजार की रातें .......
तुम्हारा हक
तुम्हारा डांटना
और फिर
प्यार से
समेटना आंसुओं को .....
क्या भूलूं
कैसे भूलूं ....
स्तब्ध हूँ
ठगी सी हूँ
सोचकर ये
क्यों हैं राहें अब
जुदा - जुदा
साथ था चलना
हमसफ़र था बनना
फिर क्यों
वो अतृप्त सी बातें
वो अनकही सी यादें .....
क्या भूलूं
कैसे भूलूं
वो हमराज सी बातें
वो मीठी सी रातें ....
यादों की धुंध में
गोल - गोल
छल्ले बनती हूँ
कुछ भूले बिसरे
अहसासों में
जब दिखता है
बिम्ब तुम्हारा
रूह की जगह
जिस्म की ओर
जाते हुए
सिहरती हूँ ,
प्रस्तर सी हो
जाती हूँ ....
क्या भूलूं
कैसे भूलूं
वो दर्द भरी बातें
वो आंसुओं की रातें .....
जलती है
अब भी
खुद के अन्दर
मर्यादा की चिंगारी
तप - योग के
वचनों में
आत्मा ही खो
जाती है ...
खामोश हूँ
शून्य हूँ
फिर भी
सतीत्व की कीमत पर
साथ नहीं अब
चल पाती हूँ .....
क्या भूलूं
कैसे भूलूं
वो दावाग्नि सी बातें
वो झुलसती सी रातें .........!!!!!


प्रियंका राठौर

22 comments:

  1. कुछ भूलने की कोई ज़रूरत भी नहीं है सब याद रखिये ...ताकि वक़्त पर काम आ सकें वो बाते।

    सादर

    ReplyDelete
  2. कुछ मत भूलो ...!!बस यूँ ही लिखती रहो...

    ReplyDelete
  3. That is a lovely article. And I love the work too, courtesy the picture. I am dialing for you guys to get my house done next!

    In a Hindi saying, If people call you stupid, they will say, does not open your mouth and prove it. But several people who make extraordinary efforts to prove that he is stupid.Take a look here How True

    ReplyDelete
  4. kuch bhi bhulna aasaan nahin ... bhul hi jate to kaise ehsaas darwaze kee sankal khatkhatate

    ReplyDelete
  5. सुन्दर रचना , बधाई.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर प्रस्तुति
    परिवार सहित ..दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  8. जितना भूलने की कोशिश करो उतनी ही अधिक याद आती है बातें ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. कितना भूलने की कोशिश करो कोई ना कोई याद का पत्थर फिर से हलचल मचा ही जाता है।

    ReplyDelete
  10. भूलना चाहती भी क्यों हैं ...
    यही तो निधि है ....

    ReplyDelete
  11. समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  12. आपकी यह सुन्दर प्रस्तुति कल सोमवार दिनांक 24-10-2011 को चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ की भी शोभा बनी है। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  13. “होने दें न रोकें भी, यादों की बरसात
    ऐसा मोहक औ कहाँ, झरता हुआ प्रपात”.

    सुंदर प्रस्तुति ....
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति ......

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना!
    दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!
    जहां जहां भी अन्धेरा है, वहाँ प्रकाश फैले इसी आशा के साथ!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    ReplyDelete
  16. dard se bhari rachana wo sab kuch yaad dilati hai jo aksar bhulne ki koshish karta hu.
    aapko aur aapki smpoorn pariwar ko deepawali ki hardik shubhkamnaye swikar kare.

    ReplyDelete
  17. bhaut hi acchi rachna.... happy diwali...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  19. भूल पाना बहुत कठिन होता है ..
    .. आपको दीपपर्व की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  20. मुझे ऐसा लगता है और मेरा मानना है की कभी भी किसी आइहसास को जो अंतर आत्मा से जुड़ा हो भुलाया नहीं जा सकता चाहे कुछ करलो.... हम बस कुछ देर के लिए उन एहसासों को अनदेखा अनसुना कर सकते हैं मगर कभी हमेशा के लिए भूल नहीं सकते..... बहुत सुंदर रचना दीपावली की हार्दिक शुभकामनयें ....

    ReplyDelete