Saturday, March 3, 2012

मिलन.....





ना ना 
मत तोड़ना
उस क्षितिज को 
वह तो 
यूँ ही  बस
कह दिया था तुमसे ......


वह दूर क्षितिज 
खामोश ,
शांत ,
निश्छल ,
वही तो पड़ाव है 
हमारे मिलन का ........


कभी देखा है 
तुमने 
धरा और अम्बर को 
मिलते हुए 
लेकिन -
वो मिलते हैं 
उसी क्षितिज पर 
हमारी ही तरह .......


इसलिए -
मत तोड़ना 
उस क्षितिज को 
अभी कई सदियाँ 
और 
कई मिलन बाकी हैं ................!!!!!!




प्रियंका राठौर 

16 comments:

  1. सुन्दर ... आशा हमेशा जीवित रहनी चाहिये , कोई कुछ भी कहे
    ... सादर छुटकी का भईया

    ReplyDelete
  2. वह दूर क्षितिज
    खामोश ,
    शांत ,
    निश्छल ,
    वही तो पड़ाव है
    हमारे मिलन का ........sunder abhivykti ......

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    रंगों के त्यौहार होलिकोत्सव की अग्रिम शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. क्षितिज मेरी आस है , उस भ्रम को रहने देना

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव अभिव्यक्ति की बेहतरीन रचना,..

    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete
  6. सुंदर भाव अभिव्यक्ति की बेहतरीन रचना,..

    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete
  7. इसलिए -
    मत तोड़ना
    उस क्षितिज को
    अभी कई सदियाँ
    और
    कई मिलन बाकी हैं ................!!!!!! bilkul sahi kahan apne.... behtreen bhaavo ko shabdo me piroya hai apne....

    ReplyDelete
  8. कुछ बातें यूँ भी नहीं कहनी चाहियें

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    होलिकोत्सव की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. अभी कई सदियाँ
    और
    कई मिलन बाकी हैं ................!!!!!!
    आह ! भरम तो कायम रहना चाहिये

    ReplyDelete
  11. सही ही तो है जीने के लिए कोई भ्रम का कायम रहना भी ज़रूरी है।

    ReplyDelete
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  13. क्या बात है... सुन्दर अभिव्यक्ति...
    बधाईयां...

    ReplyDelete
  14. क्षितिज ही तो है पहचान अनंत मिलन की !
    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  15. मिलन का भरम ना टूटे कभी....
    सुन्दर रचना प्रियंका जी..

    ReplyDelete
  16. बहूत सुंदर ,गहन अभिव्यक्ती है

    ReplyDelete