Friday, January 21, 2011

टूटते सपनों के साथ .....







टूटते सपनों के साथ
रिश्ते की चिता जलाती हूँ ,
उस सुलगती अग्नि बीच
खुद ही झुलसती जाती हूँ !
उम्मीदों के साथ
इंतजार को मुखाग्नि दे आई हूँ ,
उस जलती चिता बीच
खुद को ही छोड़ आई हूँ !
बुझते  ही  ज्वाला के
यादों की राख हाथ आनी है
और कांपते हाथों से 
बस तर्पण  करते जाना है !
हाँ -
टूटते सपनों के साथ ..................!!





प्रियंका राठौर  

25 comments:

  1. jeevan ke uljhe hue sandarbhon ko itne suljhe hue shabdon me vyakt karke aapne apni apratim kaavya-pratibha ka parichya diya hai

    dhnyavaaad

    ReplyDelete
  2. क्या शब्द दिए हैं रचना को .... उम्दा रचना प्रियंका ....

    ReplyDelete
  3. बहुत मर्मस्पर्शी रचना ...

    ReplyDelete
  4. उस जलती चिता बीच
    खुद को ही छोड़ आई हूँ !
    बुझते ही ज्वाला के
    यादों की राख हाथ आनी है
    और कांपते हाथों से
    बस तर्पण करते जाना है !
    हाँ -
    टूटते सपनों के साथ ..................!!

    कितना दर्द उंडेल दिया है छोटी सी रचना में..दिल को छू जाती है..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. ह्र्दय की गहराई से निकली अनुभूति रूपी सशक्त रचना

    ReplyDelete
  6. आह बहुत खूबसूरत कविता लिखी मनो दिल निचोड़ कर रख दिया हो.

    ReplyDelete
  7. aap ne hamesha ki traha likha tho bahut accha magar bahut kam padhkar laga manno rachna adhuri se hai...magar jittni bhi hai ,hai bahut sach ke karib...ho sake tho ese aur badhiye...

    ReplyDelete
  8. @pallavi ji- tarpan ke baad kuch bhi shesh nahi bachta pallavi ji...aage badhane ki gunjaish ktatm ho jati hai....dhanybad mere blog pr aane ka...

    ReplyDelete
  9. हौसला अफजाई के लिए आप सभी को धन्यवाद .....

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर ........... भावपूर्ण

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छे से व्यक्त किया है आपने | यादो का तर्पण आसान नहीं होता ,

    ReplyDelete
  13. कितने दर्द से गुजरा होगा कोई
    देख मैने खुद ही अपना तर्पण कर लिया

    बस इसके बाद अब मेरे पास शब्द खामोश हो रहे हैं।

    ReplyDelete
  14. बहुत प्रभावी भावाभिव्यक्ति..... सुंदर रचना ......

    ReplyDelete
  15. मन की पीड़ा का वर्णन। सबको पल भर के लिये खामोश कर दे……नयन नीर छलकने को आतुर हो जाये……सुंदर चित्रण।

    ReplyDelete
  16. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, मर्मस्पर्शी ....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  18. पल्लवी जी,

    आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ .....बहुत अच्छा लगा आपका ब्लॉग और पहली ही पोस्ट बहुत शानदार है.....भावो को बहुत सुन्दर तरीके से उजागर किया है आपने.......आगे भी साथ बना रहे इसलिए आज ही आपको फॉलो कर रहा हूँ......शुभकामनायें|

    कभी फुर्सत में हमारे ब्लॉग पर भी आयिए- (अरे हाँ भई, सन्डे को भी)

    http://jazbaattheemotions.blogspot.com/
    http://mirzagalibatribute.blogspot.com/
    http://khaleelzibran.blogspot.com/
    http://qalamkasipahi.blogspot.com/


    एक गुज़ारिश है ...... अगर आपको कोई ब्लॉग पसंद आया हो तो कृपया उसे फॉलो करके उत्साह बढ़ाये|

    ReplyDelete
  19. मार्मिक और निराशा से भरा..
    अगर ये वास्तविकता से जुदा है तो आग्रह है की निराश मत रहिये....

    "कभी हो मन अगर व्याकुल तो बस ये याद रखना तुम
    कदम रुकने लगे या फिर लगे उत्साह होने गुम
    हमसफ़र ना मिले तो ना सही तू रुक ना रस्ते में.
    तुझे पाना हो गर मंजिल तो बस गतिशील रहना तुम"
    इसी संदर्भ में और मुक्तक आपको यहाँ मिल जायेंगे..
    http://swarnakshar.blogspot.com/

    सदा मुस्कुराइए...और मुस्कान फैलाइये...

    ReplyDelete
  20. अच्छी रचना
    इस बार मेरे ब्लॉग में क्या श्रीनगर में तिरंगा राष्ट्र का अहित कर सकता है

    ReplyDelete
  21. प्रियंका जी, आपकी रचनाओं में जीवन के वैयक्तिक अनुभवों और दृश्यों के जो चित्रात्मक ब्योरे हैं, वह जीवन के बहिर्जगत और अंतरंग की त्रासद विडंबनाओं के रू-ब-रू ला खड़ा करते हैं | आपकी अभिव्यक्ति सामर्थ्य का सुबूत इस तथ्य में है कि आपकी कविता विडंबना को बहुत निश्प्रयास होकर छूती है |

    ReplyDelete
  22. अपने सपनों की चिता में खुद को ही जलना होता है ... अपना आपा सहना ही कठिन होता है ....

    ReplyDelete
  23. पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ.बहुत अच्छे भाव व बहुत अच्छी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete