Monday, January 17, 2011

एक और सत्य ....





आज जन्मा एक और सत्य
शिवत्व की कोख से !
कुछ सीमित लेकिन व्यापक ,
कुछ कुरूप लेकिन सुन्दरम ,
रंगहीन लेकिन रंगों की समष्टि ,
कुछ नहीं , लेकिन है सभी कुछ ,
कैसा यह आश्चर्य -
एक नहीं दो - दो जीवन !
क्या यह है परम सत्ता
अलौकिका की
है अन्तर्द्वंद  -
नहीं है हल
इस मूक प्रश्न का !
शायद -
जन्मा एक और सत्य
शिवत्व की कोख से .........!!





प्रियंका राठौर





8 comments:

  1. हर शब्‍द जीवंत सा ...सुन्‍दर शब्‍दों का संगम इस रचना में ।

    ReplyDelete
  2. यथार्थमय सुन्दर पोस्ट
    कविता के साथ चित्र भी बहुत सुन्दर लगाया है.

    ReplyDelete
  3. bahut gharai se soch kar likhti hain aap beautiful feeling with beautiful thought...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर रचना.
    आपक लेखन कला को प्रणाम है'
    - अमन अग्रवाल "मारवाड़ी"
    amanagarwalmarwari.blogspot.com

    marwarikavya.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. वास्तविकता से सराबोर भावाभिव्यक्ति......बधाई।
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete