Sunday, July 24, 2011

शब्दों से बलखाते तुम ......







जीवन के इन
पन्नों पर
शब्दों से बलखाते तुम ......
जो बन न पाया
सही क्रम
शब्दों का
हो गए पन्नें
अर्थहीन से .....
होते जो शब्द
सही क्रम में
बन जाती
एक रचना
अर्थपूर्ण , भावमयी ,
कालजयी सी ,
रंगों की
समष्टि सी .....
लेकिन अब भी -
जीवन के इन
 पन्नों पर
शब्दों से
बलखाते तुम........
बस -
 नहीं है  क्रम
आज शब्दों का .........!





प्रियंका राठौर





16 comments:

  1. बिखरे से भावों को कहती सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति...बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  3. जीवन के इन
    पन्नों पर
    शब्दों से बलखाते तुम ......
    ........वाह क्या खूब लिखा है प्रियंका जी…………बहुत ही भावपूर्ण्।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन प्रशंसनीय रचना....प्रियंका

    ReplyDelete
  5. priyankaa ji,
    kinti gehree baat kahee hai aapne apni is rachna mein, baar baar padhne ka mann kiya mera...
    aapka follower ban gaya hoon to ab aataa rahunga....

    aap bhee darshan dijiyegaa agar waqt mile to...

    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. संगीतमयी शब्द ...बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  7. आज 25- 07- 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  8. यूँ जिन्दगी के हवाले से, तुमने ये क्या कह दिया |
    दिल चीर कर निकल गया, खून भी न बहने दिया |

    ReplyDelete
  9. bahut khub...acchi prastuti..

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति...बधाई स्वीकार करें

    ReplyDelete
  11. शब्दों के भावो को बहतरीन तरीके से वयक्त किया है आपने....

    ReplyDelete
  12. nice priyanka ji

    शाम होते होते तुम
    बिखर सी जाती हो
    और जब मैं तुमको इन शब्दों मे समेटता हूं
    तो तुम्हारा एक
    अलग ही रूप निकल कर सामने आता है
    बस उसी नए रूप को
    मैं रात रात भर निहारता रहता हूं
    कि तुम इन शब्दों मे सिमट कर
    हर बार
    मेरी एक मूक कविता बन जाती हो
    ये सिलसिला रोज़ चलता है
    हर बार तुम बिखरती हो और
    ऐसे ही हर बार मैं समेट लेता हूं
    तुम्हे अपने शब्दों मे ...अक्षय-मन

    ReplyDelete
  13. शायद इसी लिए कहते हैं जीवन में सही कदमों का उठाना कितना जरूरी है ... शब्दों का क्रम भी तो जीवन का क्रम ही है ... अच्छा लिखा है बहुत ...

    ReplyDelete
  14. होते जो शब्द
    सही क्रम में
    बन जाती
    एक रचना
    अर्थपूर्ण , भावमयी ,
    कालजयी सी ,

    bahut khub ............

    ReplyDelete