Monday, April 2, 2012

प्यार नहीं मरा है ......





भावनाओं  की आग 
में जल 
शिखर सागर बन 
धरा पर फ़ैल गया ......
अब वह -
गहरा हो चला था ....
विस्तृत हो चला था ....
हर आग को 
खुद में समां लेने 
में सक्षम था ........

झुलसते हुए अंगारों 
और शोलों को 
खुद की गहराई में 
अन्दर तक ले जाना 
फिर शांत भाव से 
काले हीरे में बदल देना 
उसकी पहचान हो गयी .......

लेकिन -
फिर भी  दुःख था 
की आग उसे  
झुलसा  न पायेगी 
क्योकि उसका 
अस्तित्व ही बदल गया था ......

क्यों ये दुःख है 
वह मंथन करने लगा 
अपने अंतस को 
टटोलने लगा ....
एस खोज में 
मन के अंदर 
कोमल - कोमल यादें 
नजर आयीं 
साथ ही नजर आई 
वह ज्वाला ---- जो 
कभी रौशन  करती थी 
शिखर को ....
साथ था ....
अहसास थे ....
लेकिन - तेज हवा के झोके ने 
आग को दिया बल 
और शिखर पिघल कर
सागर हो गया ....

ओह ....!!!! हाँ ....!!!!
यही तो सच था ,
तभी -
अस्तित्व बदल जाने पर भी 
अहसासों में 
आग का वजूद 
जिन्दा  है ......

हाँ -----
प्यार नहीं मरा है ........!!!!
प्यार नहीं मरा है ........!!!!


प्रियंका राठौर 

28 comments:

  1. pyaar kabhi nahi marta ... :) ... wonderful thoughts ... keep going ...

    ReplyDelete
  2. उम्दा- प्यार नहीं मरा है ......

    ReplyDelete
  3. अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है ......

    बहुत बढ़िया रचना,सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर................

    एहसास कभी मरा नहीं करते.......न प्यार के न नफरत के .....

    ReplyDelete
  5. यही तो सच था ,तभी -
    अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है .....

    वाह वाह!!!!!बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  6. रूप बदलने पर भी प्यार नहीं बदलता ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. pyar ki sundar pyari vyakhya ,bdhai .mere blog par aapka svagat hae .

    ReplyDelete
  8. तभी -
    अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है ......बेहद अच्छे भावों को संजोया है .... हाँ प्यार मरा नहीं है

    ReplyDelete
  9. अनुपम भाव संयोजन लिए हुए ... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति
    कल 04/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... अच्छे लोग मेरा पीछा करते हैं .... ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर अभिव्यक्ति ………आभार

    ReplyDelete
  11. प्यार का स्वाभाव है..हर हाल में ज़िंदा रहना...

    ReplyDelete
  12. pyaar to amaratv ka amrat peekar amar rahta hai ....umda abhivyakti.

    ReplyDelete
  13. bhawnaao se bhra behtareen post...

    ReplyDelete
  14. aap sabhi ka bahut bahut dhanybad....

    ReplyDelete
  15. प्यार कभी मरता नहीं है ... समय के अनुसार शायद आंच कम हो जाती है या कभी भड़क जाती है ... हगर एहसास छोड़ती है ये रचना ...

    ReplyDelete
  16. हां ......सही हैं ..प्यार कभी नहीं मरता ...जो जीवित रहता हैं ..मन की अथल गहराई में ....

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर भाव ... प्रवाह पूर्ण लेखन ... अभिनन्दन स्वीकार करें ...

    ReplyDelete
  18. अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है ......

    हाँ -----
    प्यार नहीं मरा है ........!!!!

    ...........और मरेगा भी नहीं....!
    खूबसूरत....!!

    ReplyDelete
  19. सुंदर शब्दावली प्रेरणादायक कविता ....रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  20. प्रिय प्रियंका
    नमस्कार !!
    पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...!!!
    ...प्यार कभी नहीं मरता खूबसूरत कविता

    ReplyDelete
  21. तभी -
    अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है ...मन के भावो को शब्द दे दिए आपने......

    ReplyDelete
  22. भाव -भरी रचना हार्दिक बधाई .........

    ReplyDelete
  23. ओह ....!!!! हाँ ....!!!!
    यही तो सच था ,
    तभी -
    अस्तित्व बदल जाने पर भी
    अहसासों में
    आग का वजूद
    जिन्दा है ......

    हाँ -----
    प्यार नहीं मरा है ........!!!!
    प्यार नहीं मरा है ........!!!!

    बहुत ही खुबसूरत एहसास .
    हाँ यही प्यार है जो एक एहसास है
    आत्मा की तरह निर्मल ...............

    ReplyDelete
  24. सुन्दर सृजन , बेहतरीन भावाभिव्यक्ति.

    मेरे ब्लॉग" meri kavitayen" पर भी पधारें, आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  25. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  26. संगीता आंटी की बात से सहमत हूँ रूप बदल जाने पर भी प्यार नहीं बदलता...बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete