Wednesday, November 10, 2010

हो गयी मै तो जोगन रे......







हो गयी मै तो जोगन रे ,
छोड़ चुनरिया लाज शरम की ,
अपनी सुध - बुध खोयी रे !
अंजन छूटा , छूटी मेरी बिंदिया रे ,
कंगन टूटा , रूठी पाजेब की झंकार रे ,
लाल लूगड़ा ज्वाला लागे ,
श्रंगार तड़पन बन जाये रे ,
विरहन की अग्नि में जल - जल ,
हो गयी तेरी परछाई रे !
हैं सांसें अब मद्धम - मद्धम ,
जीवन मेरा छूटा जाये रे ,
ओढ़ ओढ़नी जोग की तेरी ,
हो गयी मै तो जोगन रे !!




प्रियंका राठौर

15 comments:

  1. हैं सांसें अब मद्धम - मद्धम ,
    जीवन मेरा छूटा जाये रे ,
    ओढ़ ओढ़नी जोग की तेरी ,
    हो गयी मै तो जोगन रे !!
    sundar atisundar badhai

    ReplyDelete
  2. लाल लूगड़ा ज्वाला लागे ,
    श्रंगार तड़पन बन जाये रे ,
    विरहन की अग्नि में जल - जल ,
    हो गयी तेरी परछाई रे !

    बेहद सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  3. लाल लूगड़ा ज्वाला लागे ,
    श्रंगार तड़पन बन जाये रे ,

    waah kya likha hai ... kamaal kar diya ... :)

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना प्रेम व समपर्ण से ओत प्रोत कविता

    ReplyDelete
  5. आप सभी का बहुत बहुत धन्यबाद !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर रचना!
    इस पोस्ट की चर्चा चर्चा मंच पर भी है!
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/11/335.html

    ReplyDelete
  7. very nice Priyanka .........amazing
    thanks to u sister visit my blog

    ReplyDelete
  8. very nice..post keep writting..

    ReplyDelete
  9. बहोत खूबसूरत लिखा है प्रियंका जी..

    ReplyDelete
  10. Ab kya kahu apke likhne ke baare me, bas itna kahunga, kya baat kya baat kya baat

    ReplyDelete