Saturday, November 19, 2011

'मधुशाला '......





हल्की - हल्की
सर्द - सर्द सी
ऐसी ही उस रात -
भटकते - भटकते
देखी थी  वह
'मधुशाला '
ना जाना , ना समझा तब
बस अनुभव की ही
बात हुयी थी .....
'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक
एक लम्बे सफ़र की
चाह हुयी थी ....

सवाल - जबाब के
मकडजाल में
रिश्तों की उलझन
बन आई थी ...
तुम थे
मै थी
और कुछ
अनकही सी नजदीकियां थी ....
मौन सी -
निशब्द सी ,
बातों में
कोई अहसास उभर के आया था .....

भावों की दस्तक ने
राहें कर दी
जुदा - जुदा .....
जीवन की उधेड़बुन में
बदल गया है
सब कुछ कितना ,
शेष रह गयीं हैं -
बस -
वक्त की जंजीर में जकड़ी
स्तब्ध सी ये नजरें
जो तकती हैं
राह आज भी
'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक की ...........!!!!!!



प्रियंका राठौर

12 comments:

  1. बेहद गहन भाव समन्वय।

    ReplyDelete
  2. वक्त की जंजीर में जकड़ी
    स्तब्ध सी ये नजरें
    जो तकती हैं
    राह आज भी
    'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक की ...........!!!!!!
    kya kahun ...

    ReplyDelete
  3. Bahut sundar ,,,,


    वक्त की जंजीर में जकड़ी
    स्तब्ध सी ये नजरें
    जो तकती हैं
    राह आज भी
    'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक की ...........!!!!!!

    Wah :-)

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति , बधाई .

    ReplyDelete
  5. जो तकती हैं
    राह आज भी
    'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक की ...........!!!!!!लाजवाब प्रस्तुती.....

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन...प्रियंका!!

    ReplyDelete
  7. बस -
    वक्त की जंजीर में जकड़ी
    स्तब्ध सी ये नजरें
    जो तकती हैं
    राह आज भी
    'मधुशाला ' से 'मधुशाला ' तक की ...........!!!!!!
    वाह प्रियंका जी क्या बात है बहुत ही खूबसूरती से मनोभावों को उकेरा है आपने बहुत खूब ....
    समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/2011/11/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  8. मुझे तो पता ही नहीं था कि तुम्हारा ब्लॉग भी है.... वो तो आज देखा ..... बहुत अच्छा लगा... आज इत्मीनान से पूरा ब्लॉग देखूंगा....

    रिगार्ड्स....

    ReplyDelete





  9. आदरणीया प्रियंका राठौर जी
    सस्नेहाभिवादन !

    आपकी रचना ने बांध लिया है …
    जीवन की उधेड़बुन में
    बदल गया है
    सब कुछ कितना ,
    शेष रह गयीं हैं -
    बस -
    वक्त की जंजीर में जकड़ी
    स्तब्ध सी ये नजरें
    जो तकती हैं
    राह आज भी
    'मधुशाला' से 'मधुशाला' तक की ...........!!!!!!

    जज़बातों से लबरेज़ नज़्म !
    दुआएं हैं ,आपकी 'मधुशाला' से 'मधुशाला' तक की राह आप पुनः प्राप्त कर सकें …:)

    सुंदर रचना के लिए आभार !
    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete