Thursday, December 2, 2010





अहसासों में बसता है ,
निगाहों से बयाँ होता है ,
निशब्द बंधन है ,
पर रिश्तों से परे है ,
शायद -
यही प्यार है ,
जो दिखाया नहीं जाता ,
दिख जाता है ,
लम्हों में सिमट जाता है ,
रूह की झंकार है ,
जीवन की आस है ,
भावों का गुंथन है ,
हाँ -
यही प्यार है ,
जो शब्दों से परे ,
अभिव्यक्ति है समर्पण रूप ......!!




प्रियंका राठौर




16 comments:

  1. सुन्दर भाव से भरा हुआ काव्य है|मेरी शुभकामनाये...

    ReplyDelete
  2. जो शब्दों से परे है ...सुन्दर भाव ..

    ReplyDelete
  3. bhaavpradhaan kavita aapki pasand aayi..

    badhaai !

    ReplyDelete
  4. यही प्यार है ,
    जो दिखाया नहीं जाता ,

    पर शायद बिन दिखाये भी दिख जाता है

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. शायद -
    यही प्यार है ,
    जो दिखाया नहीं जाता ,
    दिख जाता है ,
    बहुत प्रभावी पंक्तियाँ ...दिल को छु गयी ..और प्यार को नयी परिभाषा दे गयी
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  7. aap sabhi ka bhut bhut dhanyvad......

    ReplyDelete
  8. अच्छी सुंदर रचना
    प्रेम से ओत प्रोत भाव पूर्ण रचना

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब ... कोमल एकसास है प्यार ... शब्दों में नहीं बाँधा जा सकता ....
    दिल को छू गयी ये नर्म सी रचना .....

    ReplyDelete
  10. सुकोमल अहसास वाली कविता . आभार .

    ReplyDelete
  11. क्या चित्रण किया आपने ! लाजवाब, सुन्दर लेखनी को आभार.....प्रियंका जी

    ReplyDelete
  12. इस बार मेरे ब्लॉग में
    SMS की दुनिया ............

    ReplyDelete
  13. आप तो बहुत सुन्दर लिखती हैं...बधाई.

    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  14. सुंदर रचना के लिए साधुवाद! मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete