Tuesday, April 5, 2011

बहा के उनका सामान ......







बहा के उनका सामान दरिया में
सोचा था मुक्त हो जाऊँगी
अहसासों  के दलदल से .
लेकिन यह तो  वह आग है
जो न जलती है ना बुझती है
बस सुलगती जाती है .....
उस जीव की तरह -
जो मुक्त हुआ भी
लेकिन मुक्त हो ना पाया
शरीर के छूट जाने पर भी
मोह में जकड़ा बंधा सा .......




प्रियंका राठौर






9 comments:

  1. बहा के उनका सामान दरिया में
    सोचा था मुक्त हो जाऊँगी
    अहसासों के दलदल से .
    लेकिन यह तो वह आग है
    जो न जलती है ना बुझती है
    बस सुलगती जाती है .....
    bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  2. प्रिय प्रियंका
    बहुत सुंदर भावों को सरल भाषा में कहा गया है... अच्छी रचना

    ReplyDelete
  3. खूबसूरती से लिखे एहसास ...कहाँ हो पाता है मुक्त कोई ..

    ReplyDelete
  4. आखिरी पंक्तियों की उपमा दिल को छू लेने वाली है......यतार्थ परक है ये पंकितियाँ...प्रशंसनीय |

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्छे शबदो का उपयोग किया आपने !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  6. nice कृपया comments देकर और follow करके सभी का होसला बदाए..

    ReplyDelete
  7. खूबसूरती से लिखे एहसास, अच्छी रचना

    ReplyDelete
  8. बहा के उनका सामान दरिया में
    सोचा था मुक्त हो जाऊँगी
    अहसासों के दलदल से .
    लेकिन यह तो वह आग है
    जो न जलती है ना बुझती है
    बस सुलगती जाती है .....

    बहुत सारगर्भित बात कह दी आप ने
    बहुत सुन्दर
    बहुत - बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. जीवन की सच्चाई यही है !
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete