Sunday, August 28, 2011

विदुषी ....





चेहरे पर बोझिल भाव लिए
आँखों से अभिव्यक्त कर
चली आ रही थी नियमित चक्रानुसार .
द्रष्टव्य हुआ राह में एक कोमल गात
उम्र थी मात्र चार माह की , नाम विदुषी
अरुणलालिमय कपोल थे जिसके
पंखुड़ी सद्र्श सचल अंग .
देख के उसको लगता था
है नया लघु रूपांतरण प्रक्रति का .
बोली मुझसे , नयनों ही नयनों में
क्यों हो तुम बुझी - बुझी सी
जीवन तो है चंचलता का नाम
फिर क्यों तुम बनी अचंचला .
देख मुझे निरुत्तर -
खिलखिलाई और बोली -
अंदाज जीने का सीखो मुझसे
हम और तुम राही हैं , एक ही राह के
तुम अवसाद युक्त और मै................
बेखबर चली जा रही हूँ
इस आस में ,
हर राह की होती है मंजिल .
डगर के प्रत्येक द्रश्य को
कौतूहलता से देखो
तथ्यों में तथ्यों को खोजो
मात्र रोशिनी ही न स्वीकारो
अँधेरे में भी रोशिनी ढूंढो
कल नहीं अभी को सोचो
कर्तव्यपथ पर अडिग रहो ....
इन्ही का ही तो मै समिश्रण हूँ ...
मुझमे प्यार है
मुझसे प्यार है
देती हूँ , लेती हूँ ....
जीवन का हर एक सपना
होता है साकार मेरा
धरा के कण - कण , क्षण - क्षण को जीकर........
कहकर इतना चली गयी वह
ना जाने किस दिशा में
छोड़ मुझे विकलता में
सोचा मैंने -
हाँ - उसी का तो जीवन था
वह नहीं नाममात्र विदुषी
थी बल्कि वह साक्षात् विदुषी ....
महसूस कर उसको
चंचलता का संचार हुआ ...
नए विचारों का उद्गार हुआ
जो दे गए प्रेरणा
सतरंगी संघर्ष की .......................




प्रियंका राठौर

14 comments:

  1. जो दे गए प्रेरणा
    सतरंगी संघर्ष की .......................

    wah ..bahut sunder ...
    badhai..

    ReplyDelete
  2. भावनाओं का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई...

    ReplyDelete
  3. कौन है ये विदूषी ..?जो भीं हो अच्छी ही होगी तभी तो प्रेरणा दे गयी,तुम्हें .

    ReplyDelete
  4. किसी नन्हे के चेहरे की मुस्कान जीने का आधार बन जाती है..(वो नन्हा...विचार हो या प्रत्यक्ष में ही कोई ) ...इसी को बखूबी उकेरा है आपने ......बहुत सार्थक लेखनी ...आभार

    ReplyDelete
  5. बहुत-बहुत बधाई |

    सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना है...

    आइये मेरे नए पोस्ट पर....
    www.kumarkashish.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. आपकी कवितायेँ पढ़ कर अच्छा लगा ऐसे रचनाओं के लिए धन्यवाद
    कृपया मुझे भी मार्गदर्शन देवे

    ReplyDelete
  9. नए अंदाज में सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. मात्र रोशिनी ही न स्वीकारो
    अँधेरे में भी रोशिनी ढूंढो
    कल नहीं अभी को सोचो....

    बहुत ही सुन्दर भाव पिरोये हैं आपने...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. दुख की बारीकियो में सुख पा लेने की कोशिश...
    जीवन का अनुपम दृष्टीकोण....
    अनुकरणीय ... आभार ...

    ReplyDelete