Monday, September 19, 2011

बीते वक्त के तम में ......




गया था खो , कुछ
बीते वक्त के तम में .....
यहाँ ढूँढा , वहां ढूँढा
चारो ओर ढूंढ का शोर ....
हुयी विस्मृत -
खोज ही खोज  में
क्या खोया था
बीते वक्त के तम में ....
युगों - युगों के बढ़ते क्रम में
थापों का झंकृत संगीत
संसार इंद्रधनुषी रंगों का
सिमट गया
अनुभव स्पर्शित बेल में ....
हुयी स्म्रति -
जो खोया था तम में
समक्ष खड़ा  है
एक नवीन रूप में
शायद -
मिल गया वह सब कुछ
गया था खो , जो
बीते वक्त के तम में ...... !!!!



प्रियंका राठौर

15 comments:

  1. मिल गया वह सब कुछ
    गया था खो , जो
    बीते वक्त के तम में ...... !!!!
    सुंदर पंक्तियाँ.....बात कहने का अंदाज़ निराला है|

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर कविता और चित्र कविता के अनुकूल है ...

    ReplyDelete
  3. apki khoj ishvr jld puri kre yhi duaa hai bhtrin rchnaa ke liyen bdhaai .akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  4. बीते वक़्त के तम से जो मिल जाए.... वही सही विरासत है

    ReplyDelete
  5. मिल गया वह सब कुछ
    गया था खो , जो
    बीते वक्त के तम में ...... !!!!

    बहुत सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  7. जो खोया था तम में
    समक्ष खड़ा है
    एक नवीन रूप में
    शायद -
    मिल गया वह सब कुछ
    गया था खो , जो
    बीते वक्त के तम में ...... !!!!

    आपकी प्रस्तुति का खूबसूरत अंदाज है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  8. ढूंढते रहना....बीते वक्त में जो कुछ मिल जाए वो कीमती होगा.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और प्रभावी रचना .....

    ReplyDelete
  10. युगों - युगों के बढ़ते क्रम में
    थापों का झंकृत संगीत
    संसार इंद्रधनुषी रंगों का
    सिमट गया
    अनुभव स्पर्शित बेल में ....
    हुयी स्म्रति -
    भावों की सुंदर अभिव्यक्ति , बधाई..........

    ReplyDelete
  11. बीते वक्त के तम में जो मिलजाए वही असली विरासत है एक दम ठीक कहा है। रश्मि जी ने ....प्रभावी रचना .. समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete