Wednesday, September 28, 2011

मै अच्छी थी ....





सारी रात जागती रही
कशमकश में जूझती रही
क्या हुआ ?
कैसे हुआ ?
क्यों हुआ ?
प्रश्नों की कड़ियाँ
मस्तिष्क में कौंधती रही ......

दिल दुखाया ?
स्व निभाया ?
या -
अपना बनाया ?
छत पर लटके घूमते पंखे पर
टकटकी बांधे पहर बीत गयी
तभी -
कही खिड़की से आती
एक पतली किरण जगमगाई
मन के गुबार में
जाले बुनते - बुनते
यही परिणाम समक्ष आया -

मै अच्छी थी
हाँ
मै अच्छी थी
इसलिए -
बाहर हूँ आज
उस जिन्दगी से .....
टूटे हुए तारे सी ......



प्रियंका राठौर

26 comments:

  1. शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  2. टूटे हुए तारे का अस्तित्व नहीं रहता ..तो जुडना तो पड़ेगा ... अच्छी अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  3. आप अच्छी अब भी हैं... बहुत सुन्दर वाह!

    ReplyDelete
  4. ji haan ap achchhi thin achhi hain or achhi hi rhengi .....akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  5. मै अच्छी थी
    हाँ
    मै अच्छी थी
    इसलिए -
    बाहर हूँ आज
    उस जिन्दगी से .....
    टूटे हुए तारे सी .....
    ..kasmkash bhari jindagi ke sundar baangi..
    Navratri kee haardik shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  6. bahut khub ....jindagi ka ek ye bhi rang hai

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।माता रानी आपकी सभी मनोकामनाये पूर्ण करें और अपनी भक्ति और शक्ति से आपके ह्रदय मे अपनी ज्योति जगायें…………सबके लिये नवरात्रि शुभ हों

    ReplyDelete





  8. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  9. वाह ...बहुत बढि़या ।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति ||
    माँ की कृपा बनी रहे ||

    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/09/blog-post_26.html

    ReplyDelete
  11. टूटे तारों की तो अपनी नियति होती है ... पर पाना लेखा अपने आप होता है ... सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  12. मै अच्छी थी
    हाँ
    मै अच्छी थी
    इसलिए -
    बाहर हूँ आज
    उस जिन्दगी से .. BAHUT ACHHI ho

    ReplyDelete
  13. आप अच्छी थीं और अब भी अच्छी हैं :) समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/2011/09/2011.html

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया!
    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की मंगलकामनाएँ!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुंदर .....प्रभावित करती बेहतरीन पंक्तियाँ ....

    ReplyDelete
  16. ... नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं....
    आपका जीवन मंगलमयी रहे ..यही माता से प्रार्थना हैं ..
    जय माता दी !!!!!!

    ReplyDelete
  17. आज का सत्य..अच्छा होना ही बाहर होना है,सुन्दर!!

    ReplyDelete
  18. नई पुरानी हलचल से आपकी इस पोस्ट पर आना हुआ.

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति है,आपकी.
    आभार.

    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  19. आप की रचना अच्छी है.... आप भी अच्छी हैं!
    नवरात्री की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  20. सच में अच्छी थी ....भावना अच्छी हो तो जीवन भी अच्छा चल पड़ता है ......सुंदर भाव

    ReplyDelete